काला कुत्ता!

गली में कुछ छोटे बच्चे एक मासूम को घेर कर खड़े थे और उसे नसीहतें दी जा रही थी। मामला था की, मासूम ने एक कुत्ते पे पत्थर का छोटा सा टुकड़ा फेंक दिया था।

एक बच्चा – अब तो तुम्हे पुलिस पकड़ के ले जाएगी।

दूसरा बच्चा – कल सलमान अंकल को भी पुलिस पकड़ कर ले गयी।

तीसरा बच्चा – हां उन्होंने भी काले हिरण को मारा था, तुमने भी तो काले कुत्ते को मारा है।

मासूम बालमन तब से सकते में है! उसे क्या मालूम काले हिरण और काले कुत्ते का फर्क। उसके लिए तो वही चार पैर और वही एक जान।

~ Gouri

Advertisements

My Sketch Book ~01

What happens when you pick up the sketch pencils after 20 years, yes that exactly happened with me yesterday. I really forgot that how much I had loved those drawing classes as a toddler and school going kid. Credit for this revival of interest goes to Ravish Raj. He is available on WordPress and his art work really inspired me to draw some curved lines again. Thanks Ravish.

.

You can join me on:

Facebook
https://m.facebook.com/gourav.anand

Instagram
@mrgouravanand

Twitter
@mrgouravanand

Random Thoughts ~ 05. My Small Library.

It’s a hectic life and when everyone seems to be busy with there own complicated issues, where and with whom do we introverts would find solace. Yes !! guessed it right.. books.

Sorry my small library.. I am little late to confess that you are my world, my love and all source of happiness. Sorry that now a days I have got too busy with my job life and rarely get any quality time to spend with you. Sorry that few days back, when every where deepawali cleaning mode was on full swing, I didn’t bothered to remove those extra heavy layer of fine dusts, which had got settled on your shelves.

But today I couldn’t withhold those painful looks you were throwing at me.. my dear true love believe me I am not cheating on you and neither I have got any girlfriend.. still you are my hunny bunny. It’s just that I am stucked.. but wait today we are going on a date.. yes!! Yes!! And Yesss.. Muahhhhhhh..

Let me get you ready first my beautiful lady…

Ohh my god you have got so many colours.. how come I never saw that.. and you are multilingual too.. Hindi, English, Urdu, French, Sanskrit and even German too..

Some damp duster.. Some dry duster… That’s all you needed as makeup kit.. whoaaah you are so cost effective in my small budget.. Hi hi… 😂😂 Just joking my darling, see I am giving you my million dollar smile and best part my heart is all yours.

Here now you are ready my lady love… Now it’s time to have some dance and romance.. 😊😊

Be with me always.. my small library.

Random Thoughts ~ 04, लोक उपासना का महापर्व, छठ पूजा.

(Pic of chhath pooja ghath on bank of small rivulet, from my native place )

केलवा के पात पर उगे लन सुरुज मल झांके ऊंके ,
हो करेलु छठ बरतिया से झांके ऊंके,
हम तोसे पूछी बरतिया ऐ बरितया से केकरा लागी,
हे करेलू छठ बरतिया से केकरा लागी।”

~Sung by Sharda Sinha

स्मृति के गलियारों के अंतिम छोर तक जहां तक भी यादों का वास्ता है, अगर पूछा जाए कि किस गीत ने दिल में हमेशा हलचल मचाई है तो बिना सोचे कह पडूंगा, देश की प्रसिद्ध लोक गायिका शारदा सिन्हा के गाये हुए लोकप्रिय छठ के गीत।

जब से होश संभाला है, तब से इन गीतों में वो सब कुछ मिल जाता, जो एक इंसान को अपने घर परिवार सहित गांव समाज की मिट्टी से जुड़े होने का एहसास दिलाता हो।

राऊरे दरस लागी तन मन व्याकुल
लीकेना अरग हमार
हे दीनानाथ हरी ना मन के अन्हार

राऊरे से तीनों लोक में अंजोरिया
सृष्टि के चले संसार हे दीनानाथ
हरी ना मन के अन्हार
हे दीनानाथ हरी ना मन के अन्हार

देव अंगारी में मंदिर सूरुज के
भक्तन करीला जय जयकार
हे दीनानाथ हरी ना मन के अन्हार

आज जब संध्या काल के वक़्त स्टाफ गेट से बाहर आया तो कानों में गूंजते इन गीतों ने बरबस मेरे कदमों को जो अपने घर को जा रहे थे, इनकी स्रोत की ओर मोड़ डाला।

मैं भले ही घर पे न हूँ, पर इंटरनेट ने तस्वीरों को साझा करना अब बहुत ही आसान बना दिया है..

(My Nani Maa, Performing the rituals of pooja)

आज वक़्त की कमी है इसलिए आप सबों को अपने शब्दों के बजाय विकिपीडिया के हवाले से लिख रहा हूँ, क्योंकि मुझे ऐसा लगा कि इस अनूठे और मनभावन लोकपर्व के बारे में आप सबों को जानकारी देना मेरा फ़र्ज़ बनता है। शायद मेरे ब्लॉग के बहाने आप इसे पढें और समझें ।


Chhath is an ancient Hindu Vedic festival historically native to the Madhesh province and Mithilaregion of Nepal and Bihar, Jharkhand, Uttar Pradesh states of India.The Chhath Puja is dedicated to the Sun and his wife Usha in order to thank them for bestowing the bounties of life on earth and to request the granting of certain wishes. Chhath does not involve any idol worship. This festival is observed by Nepalese and Indian people, along with their diaspora. Some Bihari Muslims too celebrate Chhath.

The rituals of the festival are rigorous and are observed over a period of four days. They include holy bathing, fasting and abstaining from drinking water (Vratta), standing in water for long periods of time, and offering prasad (prayer offerings) and arghya to the setting and rising sun. Some devotees also perform a prostration march as they head for the river banks. Chhath Puja also has health benefits.

Environmentalists claim that Chhath is the most eco-friendly Hindu festival.Although the festival is observed most elaborately in Madhesh (southern) region of Nepal and Indian states of Bihar, Jharkhand and UP, it is also more prevalent in areas where migrants from those areas have a presence. It is celebrated in all Northern regions and major Northern urban centers in India bordering Nepal. The festival is celebrated in the regions including but not exclusive to the northeast region of India, Madhya Pradesh, Bihar, Uttarkhand, Uttar Pradesh, Chhattisgarh, Jharkhand, Rajasthan Bangalore Mauritius, Fiji, South Africa, Trinidad and Tobago, Guyana, Suriname, Jamaica, other parts of the Caribbean, United States, United Kingdom, Republic of Ireland, Australia, New Zealand, Malaysia, Macau, Japan, and Indonesia.

Chhath puja is performed on Kartika Shukla Shashthi, which is the sixth day of the month of Kartika in the Vikram Samvat. This falls typically in the month of October or November in the Gregorian English Calendar. The exact date of the festival is decided by Central division of Janakpurdham in Mithila Region of Nepal which is applicable to worldwide adherents.

It is believed that the ritual of Chhath puja may even predate the ancient Vedas texts, as the Rigveda contains hymns worshiping the Sun god and describes similar rituals. The rituals also find reference in the Sanskrit epic poem Mahābhārata in which Draupadi is depicted as observing similar rites.

In the poem, Draupadi and the Pandavas, rulers of Indraprastha (modern Delhi), performed the Chhath ritual on the advice of noble sage Dhaumya. Through her worship of the Sun God, Draupadi was not only able to solve her immediate problems, but also helped the Pandavas later regain their lost kingdom.

Its yogic/scientific history dates back to the Vedic times. The rishis of yore used this method to remain without any external intake of food as they were able to obtain energy directly from the sun’s rays. This was done through the Chhath method.

Another history behind celebrating the Chhath puja is the story of Lord Rama. It is considered that Lord Rama of Ayodhya and Sita of Mithila had kept fast and offer puja to the Lord Sun in the month of Kartika in Shukla Paksh during their coronation after returning to the Ayodhya after 14 years of exile. From that time, chhath puja became the significant and traditional festival in the Hindu religion and started celebrating every year at the same date in Sita‘s homeland janakpur and adjoining Indian states of Bihar,

Chhath is a festival of drinking and worshipping, that follows a period of abstinence and segregation of the worshiper from the main household for four days. During this period, the worshiper observes purity, and sleeps on the floor on a single blanket or on a separate bed.This is the only holy festival which has no involvement of any pandit (priest).The devotees offer their prayers to the setting sun, and then the rising sun in celebrating its glory as the cycle of birth starts with death. It is seen as the most glorious form of Sun worship.

Nahay khay/Arwa Arwain

On the first day of Chhath Puja, the devotees take a dip, preferably in the river Kosi river, Karnali and Ganga and carry home the holy water of these historical rivers to prepare the offerings. The house and surroundings are scrupulously cleaned. The ladies observing the Vrata called vratin or parvaitin allow themselves only one meal on this day.

Lohanda and Kharna(Argasan)

On the second day of Chhath Puja, the day before Chhath, the Vratins observe a fast for the whole day, which ends in the evening a little after sunset. Just after the worship of Sun and moon, the offerings of Kheer (rice delicacy), chappatis (of wheat flour) and bananas, are distributed among family and friends. The Vratins go on a fast without water for 36 hours after 2nd day evening prashad (kheer)..

Sandhya Arghya (evening offerings) Or Pehla Aragh

This day is spent preparing the prasad (offerings)at home. On the eve of this day, the entire household accompanies the Vratins to a riverbank, pond or a common large water body to make the offerings (Arghya) to the setting sun. It is during this phase of Chhath Puja that the devotees offer prayers to the just setting sun. The occasion is almost a carnival. Besides the Vratins, there are friends and family, and numerous participants and onlookers, all willing to help and receive the blessings of the worshipper. The folk songs sung on the evening of Chhath.

Usha Arghya (morning offerings) Or Dusra Aragh.

On the final day of Chhath Puja, the devotees, along with family and friends, go to the riverbank before sunrise, in order to make the offerings (Arghya) to the rising sun. The festival ends with the breaking of the fast by the Vratins. Friends, Relatives visit the houses of the devotees to receive the prashad.

The main worshipers, called Parvaitin (from Sanskrit parv, meaning ‘occasion’ or ‘festival’), are usually women. However, a large number of men also observe this festival as Chhath is not a gender-specific festival.The parvaitin pray for the well-being of their family, and for the prosperity of their offsprings. Once a family starts performing Chhatt Puja, it is their duty to perform it every year and to pass it on to the following generations. The festival is skipped only if there happens to be a death in the family that year.

The prasad offerings include sweets, Kheer, Thekua, laddu made of rice grit and fruit (mainly sugarcane, sweet lime and banana) offered in small bamboo soop winnows. The food is strictly vegetarian and is cooked without salt, onions or garlic. Emphasis is put on maintaining the purity of the food.


(Some happy family faces)

उगते सूर्य को तो सभी पूजते, पर ये एक ऐसा पर्व जिसमे अस्तलगामि सूर्य को भी सम्मान दिया जाता। फिर कभी विस्तार से इस पर्व पे अपने विचार रखूँगा। आज तो चलते चलते आपको इस सुंदर से गीत और कुछ लिंक के साथ छोड़ रहा हूँ, जरूर सुनिएगा।

कांच ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाय
बहंगी लचकत जाय
होई ना बलम जी कहरिया बहंगी घाटे पहुंचाय
कांच ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाय
बहंगी लचकत जाय

बाट जे पूछेला बटोहिया बहंगी केकरा के जाय
बहंगी केकरा के जाय
तू तो आन्हर होवे रे बटोहिया बहंगी छठ मैया के जाय
बहंगी छठ मैया के जाय
ओहरे जे बारी छठि मैया बहंगी उनका के जाय
बहंगी उनका के जाय

कांच ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाय
बहंगी लचकत जाय
होई ना देवर जी कहरिया बहंगी घाटे पहुंचाय
बहंगी घाटे पहुंचाय
ऊंहवे जे बारि छठि मैया बहंगी के उनके के जाय
बहंगी उनका के जाय

बाट जे पूछेला बटोहिया बहंगी केकरा के जाय
बहंगी केकरा के जाय
तू तो आन्हर होवे रे बटोहिया बहंगी छठ मैया के जाय
बहंगी छठ मैया के जाय
ऊंहवे जे बारी छठि मैया बहंगी उनका के जाय
बहंगी उनका के जाय

LINKS FOR SOME BEAUTIFUL CHHATH POOJA SONGS 😊

Random Thoughts ~ 03, Ramdhari Singh Dinkar

“Sinhashan Khali karo ki Janta Aati hai” ~ Ramdhari Singh Dinkar.

Dear all irrespective of language barrier I would request all of you to pay your respect to great indian literary legend Ramdhari Singh Dinkar, its his birth anniversary today.

BORN : 23rd September 1908

DIED : 24th April 1974

वक़्त बीत जाया करता है और कभी कभी तो एक युग भी बीत जाता है, पर विरले ही कुछ ऐसे सख्शियत इस भारत भूमि पे पैदा लेते है जो चीर काल तक के लिए नमन के हक़दार बन कर ही इस दुनिया को अलविदा कहते है। इन्ही में से एक हैं हमारे “रामधारी सिंह दिनकर” ।

जी हाँ मै बात कर रहा हूँ अपने राष्ट्रकवि और जनकवि “दिनकर” जी की, आज उनकी जयंती है। नाम जाना पहचाना है, शायद ही कोई ऐसा होगा जिसने अपने शिक्षण काल के दौरान दिनकर जी को नहीं पढ़ा होगा, वे वीर रस के महान कवियों में से एक थे। उनके शब्द आम जनमानस के दिमाग के साथ साथ साथ उनके दिलों में भी उतर आते थे। जहाँ उनकी रचनाएँ स्कॉलर्स के लिए रिसर्च का विषय रही है वहीँ भाषा इतनी ओजपूर्ण तथा सरल थी की खेतों में काम करने वाले आम मजदूर और किसानों को भी रोमांचित कर डालती थीं।

दिनकर जी का जन्म बिहार के बेगूसराय जिले में हुआ था, उसी बिहार की धरती से जिसने भारत को उसके प्राचीन इतिहास से लेकर वर्तमान तक न जाने कितने ही अनमोल रत्न दिए। मैं बिहार वासी होने से इस बात पे कई दफा गर्व भी महसूस करता हूँ।

दिनकर जी मेरे सबसे प्रिय कवि हैं, भागलपुर विश्वविद्यालय से उनका नाता होने से मैं भी खुद को उनसे जुड़ा हुआ पाता हूँ क्योंकि मैंने भी अपनी शिक्षा का एक अंश वहीँ से ग्रहण किया है।

मैं ज्यादा कुछ और तो नहीं लिखूँगा पर आप सबों से अनुरोध करूँगा की अगर आप को हिंदी आती है तो उनकी कविताओं को एक बार जरूर पढ़ें, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। मैं यहाँ पे उनकी कुछ प्रसिद्ध कविताओं को भी लिख रहा हूँ, एक बार जरूर पढ़ें

1. कलम, आज उनकी जय बोल

जला अस्थियाँ बारी-बारी
चिटकाई जिनमें चिंगारी,
जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर
लिए बिना गर्दन का मोल
कलम, आज उनकी जय बोल.

जो अगणित लघु दीप हमारे
तूफानों में एक किनारे,
जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन
माँगा नहीं स्नेह मुँह खोल
कलम, आज उनकी जय बोल.

पीकर जिनकी लाल शिखाएँ
उगल रही सौ लपट दिशाएं,

जिनके सिंहनाद से सहमी
धरती रही अभी तक डोल
कलम, आज उनकी जय बोल.

अंधा चकाचौंध का मारा
क्या जाने इतिहास बेचारा,
साखी हैं उनकी महिमा के
सूर्य चन्द्र भूगोल खगोल
कलम, आज उनकी जय बोल.

2. हमारे कृषक

जेठ हो कि हो पूस, हमारे कृषकों को आराम नहीं है
छूटे कभी संग बैलों का ऐसा कोई याम नहीं है

मुख में जीभ शक्ति भुजा में जीवन में सुख का नाम नहीं है
वसन कहाँ? सूखी रोटी भी मिलती दोनों शाम नहीं है

बैलों के ये बंधू वर्ष भर क्या जाने कैसे जीते हैं
बंधी जीभ, आँखें विषम गम खा शायद आँसू पीते हैं

पर शिशु का क्या, सीख न पाया अभी जो आँसू पीना
चूस-चूस सूखा स्तन माँ का, सो जाता रो-विलप नगीना

विवश देखती माँ आँचल से नन्ही तड़प उड़ जाती
अपना रक्त पिला देती यदि फटती आज वज्र की छाती

कब्र-कब्र में अबोध बालकों की भूखी हड्डी रोती है
दूध-दूध की कदम-कदम पर सारी रात होती है

दूध-दूध औ वत्स मंदिरों में बहरे पाषान यहाँ है
दूध-दूध तारे बोलो इन बच्चों के भगवान कहाँ हैं

दूध-दूध गंगा तू ही अपनी पानी को दूध बना दे
दूध-दूध उफ कोई है तो इन भूखे मुर्दों को जरा मना दे

दूध-दूध दुनिया सोती है लाऊँ दूध कहाँ किस घर से
दूध-दूध हे देव गगन के कुछ बूँदें टपका अम्बर से

हटो व्योम के, मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं
दूध-दूध हे वत्स! तुम्हारा दूध खोजने हम जाते हैं.

3. भारत का यह रेशमी नगर

भारत धूलों से भरा, आंसुओं से गीला, भारत अब भी व्याकुल विपत्ति के घेरे में.
दिल्ली में तो है खूब ज्योति की चहल-पहल, पर, भटक रहा है सारा देश अँधेरे में.

रेशमी कलम से भाग्य-लेख लिखनेवालों, तुम भी अभाव से कभी ग्रस्त हो रोये हो?
बीमार किसी बच्चे की दवा जुटाने में, तुम भी क्या घर भर पेट बांधकर सोये हो?

असहाय किसानों की किस्मत को खेतों में, कया जल मे बह जाते देखा है?
क्या खाएंगे? यह सोच निराशा से पागल, बेचारों को नीरव रह जाते देखा है?

देखा है ग्रामों की अनेक रम्भाओं को, जिन की आभा पर धूल अभी तक छायी है?
रेशमी देह पर जिन अभागिनों की अब तक रेशम क्या? साड़ी सही नहीं चढ़ पायी है.

पर तुम नगरों के लाल, अमीरों के पुतले, क्यों व्यथा भाग्यहीनों की मन में लाओगे?
जलता हो सारा देश, किन्तु, होकर अधीर तुम दौड़-दौड़कर क्यों यह आग बुझाओगे?

चिन्ता हो भी क्यों तुम्हें, गांव के जलने से, दिल्ली में तो रोटियां नहीं कम होती हैं
धुलता न अश्रु-बुंदों से आंखों से काजल, गालों पर की धूलियां नहीं नम होती हैं.

जलते हैं तो ये गांव देश के जला करें, आराम नयी दिल्ली अपना कब छोड़ेगी?
या रक्खेगी मरघट में भी रेशमी महल, या आंधी की खाकर चपेट सब छोड़ेगी.

4. परशुराम की प्रतीक्षा

हे वीर बन्धु ! दायी है कौन विपद का ?
हम दोषी किसको कहें तुम्हारे वध का ?

यह गहन प्रश्न; कैसे रहस्य समझायें ?
दस-बीस अधिक हों तो हम नाम गिनायें।
पर, कदम-कदम पर यहाँ खड़ा पातक है,
हर तरफ लगाये घात खड़ा घातक है।

घातक है, जो देवता-सदृश दिखता है,
लेकिन, कमरे में गलत हुक्म लिखता है,
जिस पापी को गुण नहीं; गोत्र प्यारा है,
समझो, उसने ही हमें यहाँ मारा है।

जो सत्य जान कर भी न सत्य कहता है,
या किसी लोभ के विवश मूक रहता है,
उस कुटिल राजतन्त्री कदर्य को धिक् है,
यह मूक सत्यहन्ता कम नहीं वधिक है।

चोरों के हैं जो हितू, ठगों के बल हैं,
जिनके प्रताप से पलते पाप सकल हैं,
जो छल-प्रपंच, सब को प्रश्रय देते हैं,
या चाटुकार जन से सेवा लेते हैं;

यह पाप उन्हीं का हमको मार गया है,
भारत अपने घर में ही हार गया है।

है कौन यहाँ, कारण जो नहीं विपद् का ?
किस पर जिम्मा है नहीं हमारे वध का ?
जो चरम पाप है, हमें उसी की लत है,
दैहिक बल को रहता यह देश ग़लत है.

नेता निमग्न दिन-रात शान्ति-चिन्तन में,
कवि-कलाकार ऊपर उड़ रहे गगन में.
यज्ञाग्नि हिन्द में समिध नहीं पाती है,
पौरुष की ज्वाला रोज बुझी जाती है.

ओ बदनसीब अन्धो ! कमजोर अभागो ?
अब भी तो खोलो नयन, नींद से जागो.
वह अघी, बाहुबल का जो अपलापी है,
जिसकी ज्वाला बुझ गयी, वही पापी है.

जब तक प्रसन्न यह अनल, सुगुण हँसते है;
है जहाँ खड्ग, सब पुण्य वहीं बसते हैं.

वीरता जहाँ पर नहीं, पुण्य का क्षय है,
वीरता जहाँ पर नहीं, स्वार्थ की जय है.

तलवार पुण्य की सखी, धर्मपालक है,
लालच पर अंकुश कठिन, लोभ-सालक है.
असि छोड़, भीरु बन जहाँ धर्म सोता है,
पातक प्रचण्डतम वहीं प्रकट होता है.

तलवारें सोतीं जहाँ बन्द म्यानों में,
किस्मतें वहाँ सड़ती है तहखानों में.
बलिवेदी पर बालियाँ-नथें चढ़ती हैं,
सोने की ईंटें, मगर, नहीं कढ़ती हैं.

पूछो कुबेर से, कब सुवर्ण वे देंगे ?
यदि आज नहीं तो सुयश और कब लेंगे ?
तूफान उठेगा, प्रलय-वाण छूटेगा,
है जहाँ स्वर्ण, बम वहीं, स्यात्, फूटेगा.

जो करें, किन्तु, कंचन यह नहीं बचेगा,
शायद, सुवर्ण पर ही संहार मचेगा।
हम पर अपने पापों का बोझ न डालें,
कह दो सब से, अपना दायित्व सँभालें.

कह दो प्रपंचकारी, कपटी, जाली से,
आलसी, अकर्मठ, काहिल, हड़ताली से,
सी लें जबान, चुपचाप काम पर जायें,
हम यहाँ रक्त, वे घर में स्वेद बहायें.

हम दें उस को विजय, हमें तुम बल दो,
दो शस्त्र और अपना संकल्प अटल दो.
हों खड़े लोग कटिबद्ध वहाँ यदि घर में,
है कौन हमें जीते जो यहाँ समर में ?

हो जहाँ कहीं भी अनय, उसे रोको रे !
जो करें पाप शशि-सूर्य, उन्हें टोको रे !

जा कहो, पुण्य यदि बढ़ा नहीं शासन में,
या आग सुलगती रही प्रजा के मन में;
तामस बढ़ता यदि गया ढकेल प्रभा को,
निर्बन्ध पन्थ यदि मिला नहीं प्रतिभा को,

रिपु नहीं, यही अन्याय हमें मारेगा,
अपने घर में ही फिर स्वदेश हारेगा.

5. समर शेष है

ढीली करो धनुष की डोरी, तरकस का कस खोलो ,
किसने कहा, युद्ध की वेला चली गयी, शांति से बोलो?
किसने कहा, और मत वेधो ह्रदय वह्रि के शर से,
भरो भुवन का अंग कुंकुम से, कुसुम से, केसर से?

कुंकुम? लेपूं किसे? सुनाऊँ किसको कोमल गान?
तड़प रहा आँखों के आगे भूखा हिन्दुस्तान.

फूलों के रंगीन लहर पर ओ उतरनेवाले !
ओ रेशमी नगर के वासी! ओ छवि के मतवाले!
सकल देश में हालाहल है, दिल्ली में हाला है,
दिल्ली में रौशनी, शेष भारत में अंधियाला है .

मखमल के पर्दों के बाहर, फूलों के उस पार,
ज्यों का त्यों है खड़ा, आज भी मरघट-सा संसार .

वह संसार जहाँ तक पहुँची अब तक नहीं किरण है
जहाँ क्षितिज है शून्य, अभी तक अंबर तिमिर वरण है
देख जहाँ का दृश्य आज भी अन्त:स्थल हिलता है
माँ को लज्ज वसन और शिशु को न क्षीर मिलता है

पूज रहा है जहाँ चकित हो जन-जन देख अकाज
सात वर्ष हो गये राह में, अटका कहाँ स्वराज?

अटका कहाँ स्वराज? बोल दिल्ली! तू क्या कहती है?
तू रानी बन गयी वेदना जनता क्यों सहती है?
सबके भाग्य दबा रखे हैं किसने अपने कर में?
उतरी थी जो विभा, हुई बंदिनी बता किस घर में

समर शेष है, यह प्रकाश बंदीगृह से छूटेगा
और नहीं तो तुझ पर पापिनी! महावज्र टूटेगा

समर शेष है, उस स्वराज को सत्य बनाना होगा
जिसका है ये न्यास उसे सत्वर पहुँचाना होगा
धारा के मग में अनेक जो पर्वत खडे हुए हैं
गंगा का पथ रोक इन्द्र के गज जो अडे हुए हैं

कह दो उनसे झुके अगर तो जग मे यश पाएंगे
अड़े रहे अगर तो ऐरावत पत्तों से बह जाऐंगे

समर शेष है, जनगंगा को खुल कर लहराने दो
शिखरों को डूबने और मुकुटों को बह जाने दो
पथरीली ऊँची जमीन है? तो उसको तोडेंगे
समतल पीटे बिना समर कि भूमि नहीं छोड़ेंगे

समर शेष है, चलो ज्योतियों के बरसाते तीर
खण्ड-खण्ड हो गिरे विषमता की काली जंजीर

समर शेष है, अभी मनुज भक्षी हुंकार रहे हैं
गांधी का पी रुधिर जवाहर पर फुंकार रहे हैं
समर शेष है, अहंकार इनका हरना बाकी है
वृक को दंतहीन, अहि को निर्विष करना बाकी है

समर शेष है, शपथ धर्म की लाना है वह काल
विचरें अभय देश में गाँधी और जवाहर लाल

तिमिर पुत्र ये दस्यु कहीं कोई दुष्काण्ड रचें ना
सावधान हो खडी देश भर में गाँधी की सेना
बलि देकर भी बलि! स्नेह का यह मृदु व्रत साधो रे
मंदिर औ’ मस्जिद दोनों पर एक तार बाँधो रे

समर शेष है, नहीं पाप का भागी केवल व्याध
जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनके भी अपराध.

Random Thoughts ~ 02 (गैरजिम्मेदाराना)

हवाओं में उमस थोड़ी ज्यादा थी, अमूमन रात के दस ग्यारह के बाद गर्मी के तेवर थोड़े नर्म पड़ जाते। पर आज कुछ ऐसा नही महसूस हो रहा था, कई करवटे बदली पर मानों आँखों से नींद भी कोसों दूर खड़ी थी। अचानक से बिल्डिंग के पावर सप्लाई चेंजर में कुछ गड़बड़ी आ जाने से सारी बिजली बत्ती गुल हो गयी, अब जो भी मरम्मती का काम होता सुबह ही हो पाता सो मजबूरन मैं चप्पल डाल बाहर सड़क पर टहलने निकल पड़ा। ये सोचकर कि इसी बहाने थोड़ा वक्त तो कट जाएगा।
मोहल्ले की सड़क थोड़ा आगे जाकर खुले मैदान से गुजरते हुए शहर के रिंग रोड से जाकर मिल जाती थी। चलते चलते जंक्शन पॉइंट भी आ गया, कम से कम 2 किलोमीटर की दूरी रही होगी जो मुझे भी नहीं पता चला कैसे तय हो गया। साथ भोला भी था, भोला गली के कुत्तों की टोली का लीडर है, और मेरी उससे बहुत ही अच्छी बनती है, कारण हर रोज़ सुबह की बिसकिट्स।
हल्की थकान का एहसास होने पे पास पड़े एक पत्थर के स्लैब पे बैठ गया। जंक्शन पॉइंट पे एक बड़ा सा लैंप पोस्ट भी था जिसकी पीली रोशनी से पूरा दृश्य नहा उठा था। इस सन्नाटे को चीरते हुए थोड़ी थोड़ी देर में बड़ी ट्रकें सड़क पर से गुजर रही थी। भोला भी निश्चिंत हो कर पास में बैठ गया। कुत्ते तो वैसे भी हर रोज़ रतजगा करते पर आज अपना साथ निभाने के लिए मेरा साथ पाकर वो शायद बहुत ख़ुश था, जो कि उसके बार बार दुम हिलाने और चेहरे को देख मैं ताड गया।
इतने में एक कार वहाँ आकर रुकी, जिसमे से तीन लड़के और दो लड़कियाँ नीचे उतरीं। एक लड़की की हालत बड़ी नाज़ुक मालूम पड़ी ठीक ढंग से खड़ी भी नहीं हो पा रही थी और उतरते ही उबकियाँ लेनी सुरू कर दी, दूसरी उसे संभालने की कोशिश कर रही थी पर उसकी भी हालत कुछ ठीक नही लग रही थी। बाद बाँकी लड़कों के भी हाव भाव ठीक नहीं लग रहे थे।
मैं कुछ मदद कर सकूँ ये सोच उनके पास पहुंचा पर उनके मुंह से आ रही शराब की बदबू से सारा माजरा समझ गया। जो लड़का गाड़ी चला रहा था वो पूरी तरह होशों हवास में था, और रह रह कर सबके ऊपर भड़ास भी निकल रहा था
“अरे जब संभलती नहीं तो पीते क्यों हो फिर, बेवजह फंसवा दिया सबने”
जिस लड़की की हालत ज्यादा बुरी थी वो बार बार रोते रोते यही रट रही थी “अब नही पिऊंगी, अम्मी कसम”
सड़क किनारे बस स्टाप की बेंच लगी हुई है, उस पर थोड़ी देर के लिए लड़की को लेटाया तो उसके जान में जान आयी। मुझे धन्यवाद बोल, 15 मिनट में वे सब कार में बैठ कर आगे के लिए रवाना हो गए। उनके निकलते ही पीछे से पुलिस पेट्रोल जीप भी गुजरी, किस्मत ने सही साथ निभाया उनका।
खैर वो तो चले गए पर मेरे मन मस्तिष्क में एक हलचल छोड़ गए। क्या आज के तारीख में युवा वर्ग हर एक गलत चीज को बिना रोक टोक के करते रहने देने को ही आज़ादी मान बैठे हैं। आज़ादी के साथ साथ जिम्मेदारी का एहसास होना भी आवश्यक है। कर्त्तव्यों के निर्वहन के बिना अधिकारों की वकालत करना तो सरासर बेमानी ही लगती।
भोला को आवाज़ दी और अपने घर को वापस चल पड़ा। सुबह के 3 बजने वाले थे।

~ ग़ौरी